260 Shayari in Hindi । Hindi Shayari । हिंदी शायरी

तमाम उम्र गुजार देंगे हम राह-ए-इंतजार में। झूठा ही सही पर आने का एक वादा तो कर।


टूट गया अब दिल वबाल क्या करें। खुद ही पसंद किया था, सवाल क्या करें।


जब रिश्ते रुलाने लगे तो इग्नोर करना सीखो। जिंदगी काफी आसान हो जाएगी।


बहुत अच्छा होना भी अच्छा नहीं होता। पता नहीं चलता है, कि लोग कदर कर रहे हैं, या इस्तेमाल।


पीठ पीछे नफरत, मुंह पर प्यार। आजकल की दुनिया का, यही है, कारोबार।

Shayari in Hindi

उदासी पकड़ ही नहीं पाते लोग। इतना संभलकर मुस्कुराते हैं, हम।


मजाक का सहारा लेकर लोग दिल की बात बोल जाते हैं।


लहजे में बदतमीजी और चेहरे पर नकाब लिए फिरते हैं। जिनके खुद के खाते खराब हैं, वो मेरा हिसाब लिए फिरते हैं।


मेरे बाद किसी को भी अपना बनाकर देख लेना। तेरा ही दिल कहेगा … यार! उसकी वफा में बात ही कुछ और थी।


जब इंसान को बुरे हालात घेर लेते हैं, तो अपने भी उससे मुंह फेर लेते हैं।

Hindi Shayari

आज परछाई से पूछ ही लिया, क्यों चलती हो मेरे साथ! उसने हंस के कहा … और कौन है, तेरे साथ?


कुछ कह गए, कुछ सह गए। कुछ कहते-कहते रह गए। मैं सही तू गलत के खेल में ना जाने कितने रिश्ते खत्म हो गए।


मैं इस काबिल तो नहीं कि कोई अपना समझे। पर इतना यकीन है; कोई अफसोस जरुर करेगा मुझे खो देने के बाद।


इतना भी मत रूठा करो हमसे। हम आपकी किस्मत में वैसे भी नहीं हैं।


दिल तकलीफ में है, और तकलीफ देने वाले दिल में।

Shayari in Hindi 2 Lines

छोड़ने वाले छोड़ ही जाते हैं, यार कैसा भी हो। निभाने वाले निभा ही जाते हैं, हालात कैसा भी हो।


एक कब्र पर लिखा था … किसी को क्या इल्जाम दूं। जिंदगी में सताने वाले भी अपने थे, और दफनाने वाले भी अपने थे।


यूं तो जिंदगी में कमियां बहुत है। पर एक तेरे साथ होने से सब कुछ पूरा-सा लगता है।


दर्द भी तुम, दवा भी तुम; इबादत भी तुम, खुदा भी तुम। चाहा भी तुमको और पाया भी नहीं। साथ भी तुम, जुदा भी तुम।


चाहत, फिक्र, खुशी, सादगी और वफा; मेरी इन्हीं आदतों ने मेरा तमाशा बना दिया।


अकेला रोता छोड़ गया वो इंसान भी मुझे; जो कल तक कहता था, रोना मत तुम्हें मेरी कसम।


भीगें कागज की तरह कर दी तूने जिंदगी मेरी। ना लिखने के काबिल छोड़ा, ना जलने के काबिल।


आदत थी, मेरी सबसे हंसके बोलने की। मेरा शौक ही मुझे बदनाम कर गया।


जब जिस्म ही चाहिए तो बस तुम नहीं पूरा शहर पड़ा है। रूह से मोहब्बत है, शायद इसलिए ये दिल सिर्फ तुम्हारे पीछे पड़ा है।


तुम्हें भूल जाऊं, इतना कमजोर मेरा प्यार नहीं। और दूसरी मोहब्बत कर लूं, इतना गिरा हुआ मेरा किरदार नहीं।

1 Line Shayari in Hindi

मुस्कुराते हुए खबर ना हुई, कब उदासी ने इस दिल में घर कर लिया।


वहीं हसरतें, वहीं रंजिशें। ना ही दर्द-ए-दिल में कोई कमी हुई। अजीब-सी है, तेरी मोहब्बत। ना मिल सकी, ना खत्म हुई।


करीब आओगे तो शायद हमें समझ लोगे। ये फासले तो गलतफहमियां बढ़ाते हैं।


मैं तुम्हें किसी कसमें वादों में नहीं बांधूंगी। बस तुम जब भी मिलो सिर्फ मेरे बनकर मिलो।


खुशी दे या गम दे; मगर देते रहा कर। तू उम्मीद है, मेरी। तेरी हर चीज अच्छी लगती है।


जिस्मों पर हक मिल जाते हैं, बेशक रीति-रिवाजों से। रूह जिसकी दीवानी हो, बस वही इश्क है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *